क्यों बढ़ रहा है दिल्ली में कोरोना

सर्दी और त्योहारों का मौसम आते ही देश में कोरोना वायरस इंफेक्शन के मामले भी तेज़ी से बढ़ने लगे हैं, विशेषकर राजधानी दिल्ली में यह बढ़त काफी तेज़ी से देखी गई है, हालांकि पिछले कुछ दिनों से मामले कम भी होते जा रहे हैं। राजधानी दिल्ली में 23 नवंबर को 4494 मामले सामने आए थे, जबकि 121 लोगों की मौत हुई है। 22 नवंबर को इंफेक्शन का यह आंकड़ा 6746 था। जबकि 11 नवंबर को यह आंकड़ा 8,593 तक पहुँच गया था जो कि एक दिन में कोरोना इंफेक्शन के सबसे ज़्यादा मामले सामने आने का रिकॉर्ड भी है।

कोरोना इंफेक्शन बढ़ने की जांच से जो वजह निकल कर सामने आ रही हैं, उनमें से पहली वजह सर्दी का मौसम है। जैसा कि विशेसज्ञों ने पहले ही आशंका व्यक्त की थी कि सर्दी के मौसम में कोरोना इंफेक्शन बढ़ सकता है, वो हाल के दिनों में देखने को मिल भी रहा है। 

कोलंबिया यूनिवर्सिटी के इनवॉयरमेंटल हेल्थ साइंसेज़ डिपार्टमेंट में असिस्टेंट प्रोफेसर मिकेला मार्टिनेज़ बदलते मौसम के साथ किसी वायरस के स्वरूप में आने वाले बदलावों का वैज्ञानिक अध्ययन करती हैं। उनका मानना है कि संक्रामक रोगों के ग्राफ में सालभर उतार-चढ़ाव आता रहता है। मिकेला बताती हैं कि “इंसानों में होने वाले हर संक्रामक रोग का एक ख़ास मौसम होता है। जैसे सर्दियों में फ्लू और कॉमन-कोल्ड होता है, उसी तरह गर्मियों में पोलिया और वसंत के मौसम में चिकन-पॉक्स फैलता है। चूंकि सभी संक्रामक रोग मौसम के हिसाब से बदलते हैं, इसलिए ये माना जा रहा है कि कोरोना वायरस का संक्रमण भी सर्दी में बढ़ेगा।”

वैज्ञानिक रिसर्च के अनुसार जब ह्यूमिडिटी बहुत अधिक होती है तो कोरोना वायरस के लिए फैलना मुश्किल होता है। मिकेला मार्टिनेज़ बताती हैं कि नॉर्मली… फ्लू में वायरस तापमान और हवा में मौजूद नमी के हिसाब से फैलता है और इसलिए वायरस के एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैलेने में ह्यूमिडिटी का अहम रोल होता है।” मतलब सर्दियों में जब तापमान गिरता तो ह्यूमिडिटी में कमी आती है और तब वायरस हवा में अधिक से अधिक समय तक मौजूद रह सकता है।

वहीं कोरोना वायरस इंफेक्शन की दूसरी वजह त्योहारों और शादी का सीज़न भी माना जा रहा है। जिसके कारण बाजार में बहुत ज़्यादा भीड़ है, सोशल डिस्टेंसिंग का बिलकुल भी ध्यान नहीं रखा जा रहा है और लोगों ने मास्क लगाना छोड़ दिया है। एक मीडिया चैनल से बात करते हुए दिल्ली एम्स के निदेशक डॉ। रणदीप गुलेरिया बताते हैं कि त्योहारी सीजन में कोरोना नियमों की बड़े पैमाने पर अनदेखी की जा रही  है। शादी जैसे समारोह में लोग फोटो खिंचाने के लिए मास्क लगाना तक भूल गए। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनने जैसे निर्धारित सभी नियमों का पालन सख्ती से किया जाना बेहद जरूरी है।

रणदीप गुलेरिया कहते हैं कि कोरोना संकट और सर्दियाँ बढ़ने के साथ उन लोगों को और भी ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत है जिन्हें कोई बीमारी है, खासतौर पर जो बुजुर्ग हैं, या फिर जिन्हें हार्ट अथवा फेफड़े की प्रॉब्लम है। उन्हें बाहर निकलने से बचना चाहिए और बेहद ज़रूरी होने पर ही भीड़ वाले इलाकों में जाने का रिस्क लेना चाहिए। इसके अलावा हमेशा सही मास्क और सही तरीके से मास्क लगा के चलना ज़रूरी है।

सर्दियों के मौसम में सांस लेने से सम्बंधित वायरस के फैलने की आशंका ज्यादा होती है। इसका एक कारण यह भी रहता है कि सर्दियों में लोग घरों में बंद रहते हैं, या सभी लोग आसपास रहते हैं और यह हम सभी जानते ही हैं कि खासतौर पर कोरोना वायरस करीब-करीब रहने से एक-दूसरे में आसानी से ट्रांसफर होता है, इसके अलावा वेटिलेशन कम होने की वजह से भी ऐसे वायरस फैलते हैं। 

विशेषज्ञ कोरोना इंफेक्शन बढ़ने का तीसरा कारण प्रदुषण का स्तर बढ़ने को भी मान  रहे हैं। कई रिसर्च में यह सामने आया है कि प्रदूषण बढ़ने से कोरोना वायरस इंफेक्शन में भी तेज़ी आती है। अमेरिका, इटली और चीन के मामलों पर गौर करने से पता चलता है कि जिस इलाके में प्रदूषण ज्यादा है, वहाँ कोरोना के कारण मौत भी ज्यादा हुई है। दिल्ली में ऐसा देखने में आ रहा है।

अगर इन कारणों से सहमत हैं तो हमें कमेंट के माध्यम से अवश्य बताएं या फिर आपको लगता है कि कुछ और भी कारण हो सकतें तो वो भी कमेंट करके बता सकते हैं। उम्मीद है यह चर्चा आपको पसंद आई होगी।

अगर अपने अभी तक हमारे न्यूज चैनल स्पार्क न्यूज़ को सब्सक्राइब नहीं किया है तो सब्सक्राइब कर लें और साथ में बने बेल आइकन को भी दबा दें, जिससे कि हमारी सभी खबरें आप तक तुरन्त पहुंचती रहें।

जय हिंद

 

Today’s discussion is based on the reasons that are coming out from the investigation of increasing Covid-19 infection.

With the arrival of winter and festive season, cases of Corona Virus Covid-19 infection in the country have also started increasing rapidly, specially in the capital Delhi, this covid-19 infection increase has been seen quite rapidly, although the cases are also getting less for the last few days. On November 23, 4494 cases were reported in the capital Delhi, while 121 people have died. On 22 November, the infection was 6746. Whereas on November 11, the figure reached 8,593 which is also the record for the highest number of cases of covid-19 infection in one day.

 

Show More

Shahnawz 'Sahil'

पत्रकारिता से करियर शुरुआत की, विज्ञापन एवं डिज़ाइन के क्षेत्र में कार्यरत तथा ग़ालिब के शहर दिल्ली में रहता हूँ...

Related Articles

Back to top button