किसान आंदोलन के खिलाफ बड़ी चाल का हुआ पर्दाफाश? किसने रची Kisan नेताओं को गोली मारने की साजिश?

What is the conspiracy behind the shot plan on Leaders of Kisan Andolan - Spark News

  1. केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ़ किसानों का प्रदर्शन लगातार जारी है, कई दौर की बातचीत के बावजूद कोई हल नहीं निकल पाया है और किसान अभी तक 26 जनवरी के दिन ट्रेक्टर रैली निकालने पर अड़े हुए हैं। इस बीच कल देर रात सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने एक सनसनीखेज़ आरोप लगाते हुए प्रेसकांफ्रेन्स करके बताया कि उन्होंने एक संदिग्ध को पकड़ा है, जो कि किसान आंदोलन के नेताओं पर हमला करने के लिए आया था। पकड़े गए संदिग्ध का नाम योगेश बताया जा रहा है। योगेश का कहना है कि उसे 26 जनवरी को कुछ गलत होने पर मंच पर बैठने वाले 4 किसान नेताओं पर गोली चलाने के आदेश दिए गए थे। पूछताछ के दौरान योगेश ने इस साजिश में शामिल एक पुलिस अधिकारी के नाम का भी खुलासा किया है। उस पुलिस अधिकारी ने योगेश के साथ उन 4 नेताओं की तस्वीरें भी शेयर की थी।

प्रदर्शनों के बीच हिंसा की कोशिशें नई नहीं हैं, पिछले साल एंटी एनआरसी-सीएए आंदोलन में भी हिंसा फैलाने की ऐसी सनसनीखेज़ कोशिशें हो चुकी हैं। सवाल यह भी उठ रहा है कि आखिर सुरक्षा एजेंसियों को ऐसी साज़िशों को भनक क्यों नहीं लग पाती है?

आपको बता दें कि धरने पर बैठे किसान 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली निकालने पर अड़े हुए हैं। सरकार की ओर से कानून में बदलाव करने का प्रस्ताव किसान ठुकरा चुके हैं। अब किसानों ने रैली रोके जाने की साजिश करने का आरोप लगाया है। इस पर आमआदमी पार्टी ने भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि- “हमारा सबसे बुरा डर सच हो रहा है, वह किसान आंदोलन को किस तरह खत्म करना चाहते हैं?”

वहीं दूसरी तरफ़ किसान नेता जगजीत सिंह दलेवाल का कहना है कि-“योगेश ने प्रदर्शनकारियों पर एक लड़की से छेड़खानी करने का आरोप लगाकर बदनाम करने की कोशिश की थी। पकड़े जाने के बाद उसने माना है कि वह यह देखने के लिए हंगामा करने की कोशिश कर रहा था कि प्रदर्शनकारियों के पास कोई हथियार तो नहीं हैं।”

बता दें कि शुक्रवार देर रात किसानों ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी जिसमें उन्होंने बताया कि उन्होंने योगेश नामक एक शख्स को पकड़ा है जो ट्रैक्टर रैली के दौरान माहौल खराब करना चाहता था। इसके बाद हरियाणा पुलिस ने आरोपी योगेश को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी योगेश ने भी उस प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मीडिया से बात करते हुए बाताया कि इस साजिश में उसके साथ कई और लोग शामिल हैं।

योगेश का कहना है कि 50-60 लोगों की टीम को किसान आंदोलन में माहौल खराब करने के लिए भेजा गया था।उसने यह भी दावा किया है कि हरियाणा पुलिस के एक अफ़सर ने उसे इस काम को अंजाम देने के लिए हथियार दिए थे।उसने अपने बयान में राई पुलिस स्टेशन के थानाध्यक्ष प्रदीप का भी ज़िक्र किया है। बता दें कि आरोपी योगेश खुद को पुलिसकर्मी बताकर किसानों के बीच रेकी कर जानकारी जुटा रहा था।पिछले दिनों उसने करनाल में भी रैली के दौरान हुए हंगामें के दौरान भी माहौल खराब करने की कोशिश की थी।

Show More

Related Articles

Back to top button