बजट में क्या हुआ सस्ता, क्या हुआ महंगा? कहीं राहत तो कहीं परेशानी

आज संसद में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट पेश किया जिस बजट में कुछ बिंदुओं से राहत मिली तो कुछ बिंदुओं ने जनता को परेशान कर दिया

जिस बजट का इंतज़ार काफी समय से किया जा रहा था वह बजट आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद सत्र में पेश किया। वर्ष 2021-22 के लिए इस बजट पर विपक्ष ने विरोध जताया तो वहीँ सत्तापक्ष भाजपा ने जमकर इस बजट का समर्थन किया। इस बजट में लोगों को इंतज़ार इस बात का था की इस बजट के बाद कौन सी चीज़ सस्ती होगी और कौन सी चीज़ महंगी ? इस इंतज़ार को भी केंद्र सरकार ने ख़त्म कर दिया है। इस बजट का इंतज़ार इसलिए भी बेसब्री से किया जा रहा था क्यूंकि यह बजट ऐसे समय में आया है जब देश में जीडीपी 2 बार माइनस में जा चुकी है। साथ ही हालही में देश ने कोरोना से उभरना शुरू किया है। ऐसे में वित्त मंत्री निर्मला सीथारमण के ऐलान से कुछ लोग खुश हैं तो कुछ परेशान। सबसे पहले आपको बता देते हैं की टैक्स को लेकर क्या बदलाव किये गए हैं?
1. भारत में सबसे कम कॉरपोरेट टैक्स होगा
2. पेंशनधारी बुजुर्गों को ITR नहीं भरना होगा
3. छोटे करदाताओं का टैक्स कम होगा
4. सीनियर सिटिजन को इनकम टैक्स में छूट मिलेगी।
5. टैक्स चोरी के पुराने केस खोले जाएंगे।
6. 75 साल के बुजुर्गो को ITR नहीं भरना होगा
7. पेंशन से होने वाली आय पर टैक्स नहीं होगा
8. होम लोन पर सरकार की छूट 2022 तक रहेगी
9. अभी तक सबसे ज्यादा ITR कलेक्शन किया जाएगा।
10. स्टार्टअप पर 31 मार्च 20222 तक कोई टैक्स नहीं होगा ,

कौन सी चीज़ सस्ती हुई है ?

  • स्टील से बने सामान,
  • सोना, चांदी,
  • तांबे का सामान,
  • चमड़े से बने सामान,

यह सभी सामान सस्ता हुआ है यानी इन सामानों को खरीदने के मामले में आपकी जेब खुश रह सकती है । अगर बात की जाए उन सामानों की जो महंगे हुए हैं और जिनसे आपकी जेब पर असर पड़ेगा, आपकी जेब खाली होगी, उनमें

  • मोबाइल फोन और मोबाइल फोन के पार्ट
  • चार्जर
  • गाड़ियों के पार्ट्स
  • इलेक्ट्रानिक उपकरण
  • इम्पोर्टेड कपड़े
  • सोलर इन्वर्टर
  • सोलर से उपकरण
  • कॉटन

यह सभी सामान नए बजट के मुताबिक़ महंगे हुए हैं।

दरअसल इस बजट को पेश करने के दौरान भी मोदी सरकार ने वोकल फॉर लोकल पर ज़ोर दिया जिसकी झलक इस बजट में भी साफतौर पर नज़र आ चुकी है। इसलिए अगर आप गौर करेंगे तो ज़्यादातर वही सामान महंगा हुआ है जो विदेशी है या उसके निर्माण प्रक्रिया में विदेशी सामग्री इस्तेमाल की जाती है। इसके अलावा उन सभी वस्तुओं को सस्ते दामों पर जनता के सामने रखा जाएगा जिस से स्वदेशी वस्तुओं की बिक्री पर ज़ोर दिया जा सके। यानी ज़ोरों शोरों के साथ यहाँ आत्मनिर्भर भारत और वोकल फॉर लोकल को बढ़ावा देने के लिया बड़ा कदम सरकार की उठाया गया है।

Show More

Related Articles

Back to top button