मैं मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहता था – नीतीश कुमार

27 दिसंबर को जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई थी। जिसमे बिहार के वर्तमान मुख्यमंत्री और जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने कहा कि 2020 के चुनाव के बाद उन्हें मुख्यमंत्री बनने की इच्छा नहीं थी। नीतीश ने आगे कहा कि ये बात उन्होनें बीजेपी नेतृत्व के समक्ष भी रखी थी। लेकिन बीजेपी नेतृत्व इस पर राजी नहीं हुआ और मुझे पर मुख्यमंत्री बनने का दबाव डाला गया। बता दें कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के दौरान ही नीतीश कुमार ने जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद छोड़ने की घोषणा करते हुए पार्टी के राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह को जेडीयू का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया ।

बता दे कि आरसीपी सिंह को अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव खुद नीतीश कुमार ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पेश किया था। इस पर कार्यकारिणी ने भी सर्वसम्मति से सहमति दे दी । और फिर राष्ट्रीय परिषद ने भी इसपर मुहर लगा दी । बता दें कि आरसीपी सिंह नीतीश कुमार के बेहद करीबी माने जाते है। राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने से पहले आरसीपी सिंह JDU के राष्ट्रीय महासचिव थे। इसके अलावा राजनीति से पहले आरसीपी सिंह एक आईएएस आधिकारी रह चुके है। वहीं बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और वर्तमान में बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बातों का समर्थन करते हुए कहा कि- हां वो मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहते थे लेकिन बीजेपी और जेडीयू के नेताओं ने कहा कि हमलोगों ने उनके नाम और विजन पर बिहार चुनाव लड़ा। लोगों ने उनके नाम पर हमें वोट दिया। इसके बाद उन्होंने JDU , BJP और VIP नेताओं के कहने पर सीएम पद स्वीकारा था।

Show More

Related Articles

Back to top button