भारत ने बनाई कोरोना की दवाई 2DG

DRDO (Defence Research and Development Organisation) ने 2DG नाम की दवाई तैयार कर ली है, सैशे में होगी उपलब्ध

कोरोना ने देशभर में तांडव मचा रखा है! अभी तक इस महामारी को मात देने के लिए जो वैक्सीन आई वो उतनी कारगर साबित नहीं हुई जिस से देशवासियों और वैज्ञानिकों को राहत मिल सके ! सरकार भी लगातार इस बात को लेकर फिक्रमंद थी की ऐसी किसी वैक्सीन को जल्द मंज़ूरी मिले जिस से कोरोना के दर रोज़ बढ़ते आंकड़ों को काबू में लाया जा सके! ऐसे में आखिरकार दवाई के मामले में बड़ी खुशखबरी मिली है!

DRDO यानी डिफेन्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट आर्गेनाइजेशन ने डॉ रेड्डी लेबोरेटरीज़ के साथ मिलकर कोरोना से लड़ाई के लिए 2DG नामक दवाई बनाने का दावा किया है। जिसके बाद मरीज़ का ऑक्सीजन लेवल कम नहीं होगा, और उसे अलग से ऑक्सीजन लगाने की ज़रुरत नहीं पड़ेगी! बता दें कि इसके इस्तेमाल की मंजूरी भी मिल गई है। दवा के क्लिनिकल नतीजों की मानें तो यह दवा अस्पताल में भर्ती होने वाले कोरोना मरीजों को जल्दी ठीक होने में मदद करती है! इसके साथ ही इससे मरीजों की ऑक्सीजन की जरूरत को भी कम करती है! नतीजों में यह बात सामने आई है कि इस दवा को लेने वाले मरीजों की रिपोर्ट आरटी-पीसीआर टेस्ट में निगेटिव आई है ! ऐसे में महामारी की दूसरी लहर से जूझ रहे भारत के लोगों के लिए यह दवाई काफी फायदेमंद साबित हो सकती है!

डीआरडीओ के वैज्ञानिकों की मानें तो ये दवा जल्द से जल्द बाजार में कोविड मरीजों के इलाज के लिए उपलब्ध होने लगेगी! साथ ही यह दवा सैशे में उपलब्ध होगी जिस से इसे आसानी से पानी में घोलकर कोरोना मरीज़ को दिया जा सकता है ! कंपनी ने कहा कि उसने आवश्यक सक्रिय दवा सामग्री एपीआई और फ़ेविपिराविर के लिए सही सूत्रीकरण से खुद की रिसर्च और डेवलपमेंट टीम के जरिए इस दवा को सफलतापूर्वक बनाया है!

यह खबर वाकई उन मरीज़ों के लिए राहत देने वाली खबर है जिन पर कोई वैक्सीन अपना कारगर असर नहीं दिखा पा रही! ये दवाई कोरोना मरीजों के लिए निश्चित तौर पर संजीवनी साबित हो सकती है!

Show More

Related Articles

Back to top button