क्या आप पर्सनल लोन लेना चाहते ? तो जान लें इसके फायदे और कैसे करें अप्लाई

पर्सनल लोन लेना काफी आसान है। इसे आप नीचे लिखी जानकारियों के साथ जान सकते हैं। साथ ही अप्लाई करने की प्रक्रिया भी काफी आसान है।

पर्सनल लोन किसी की जरुरत के समय एक वरदान से कम नहीं। यह लोन आपको आपके बैंक से आसानी से बिना किसी झंझट मिल जाता है चाहे आपको अपने अस्पताल का बिल भरना हो या शादी का खर्च सर पर हो या विदेश में पढ़ने के लिए फीस की जरुरत हो, पर्सनल लोन आपको सबसे कम टाइम में मिल जाता है जो आप एक समय अंतराल में आसान किश्तों में चुका सकते हे !

पर्सनल लोन अन्य लोन की तुलना में बेहतर क्यों ? इस सवाल के जवाब के लिए निचे लिखी बातों को पढ़ना जरुरी है।

1. ये आपको बिना किसी झंझट मिल जाता है वो भी बहुत कम कागज़ी कार्यवाही के साथ इसके लिए आप अपने बैंक की वेबसाइट पर जाकर आसानी से अप्लाई कर सकते हैं या फिर नेटबैंकिंग से अप्लाई कर सकते हैं इसके लिए आप अपना एटीएम भी इस्तेमाल कर सकते हैं और पास की शाखा में जाकर भी अप्लाई किया जा सकता है और इसके लिए आवेदन प्रक्रिया बहुत आसान है!

2.तत्काल पेमेंट पर्सनल लोन कुछ ही घंटों में आपके अकाउंट में आ जाता है

3. बिना किसी झिझक किसी भी काम के लिए पर्सनल लोन इस्तेमाल किया जा सकता है चाहे आपको शादी में खर्च करना हो कोई उपकरण खरीदना हो अस्पताल का बिल भरना हो या कोई भी काम करना हो तो आप अपना पर्सनल लोन इस्तेमाल कर सकते हैं जबकि कार लोन या हाउस लोन के सम्बन्ध में आप लोन वही इस्तेमाल कर सकते हे जिस प्रयोजन के लिए आपने लोन लिया हे

4. पर्सनल लोन के लिए आपको सपोर्ट सिक्योरिटी में कुछ गिरवी रखने की जरुरत नहीं होती

5. आसान कागज़ी कार्यवाही – कागज़ी कार्यवाही और पर्सनल लोन के अप्रूवल में लगने वाला समाये अन्य लोन की तुलना में बहुत कम होता है आपको पर्सनल लोन अप्लाई करने के लिए जो कागज़ी दस्तावेज़ चाइये वह हे आपका पहचान पत्र , एड्रेस प्रूफ और इनकम प्रूफ इसके अलावा आपको कोई अन्य दस्तावेज़ नहीं जमा करवाने होते।

6. पर्सनल लोन बिना किसी गारंटी के दिए जाते हैं। इसका मतलब यह है कि बैंक इसके बदले में आपसे कोई एसेट गिरवी रखने को नहीं कहते हैं। इस तरह इनकी वसूली में बैंकों के हाथ बंधे होते हैं। यही वजह है कि दूसरे सिक्योर्ड लोन के मुकाबले इनमें ब्याज की दर ज्यादा होती है।

7. पर्सनल लोन देने में बैंकों ने काफी कड़े मापदंड रखे हैं। इनमें ग्राहक की इनकम, क्रेडिट व एम्प्लॉयमेंट हिस्ट्री और लोन चुकाने की क्षमता को देखा जाता है। इन तमाम पहलुओं के बाद ही लोन अप्रूव किया जाता है।

तो इन बातों का ख्याल रखकर अगर आप पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो ये आपको आसानी से मिल जाएगा।

Show More

Related Articles

Back to top button