दिल्ली हाईकोर्ट का फरमान, ऑक्सीजन नहीं मिली तो लटका देंगे

दिल्ली उच्च नयायालय की मोदी सरकार को कड़ी फटकार, कहा अगर ऑक्सीजन सप्लाई रुकी या रोकी गई तो उस व्यक्ति को फांसी पर लटका दिया जायेगा न्यायलय उसे नहीं बख्शेगा

शनिवार को दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष महाराजा अग्रसेन अस्पताल की याचिका पर सुनवाई के दौरान न्यायालय ने केंद्र की मोदी सरकार और दिल्ली सरकार को आमने सामने खड़ा किया और केंद्र को कड़ी फटकार लगाई है ! दरअसल ऑक्सीजन की कमी के कारण अस्पतालों को कोविड मरीज़ों के इलाज़ में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी ही एक याचिका पर सुनवाई के दौरान जस्टिस विपिन संघी और रेखा पल्ली की पीठ ने केंद्र की मोदी सरकार को खरी खरी सुनाई और आड़े हाथों लिया !

न्यायालय ने दिल्ली सरकार से भी सवाल करते हुए उनसे कहा की कोई भी एक उदाहरण बताइये जिसने ऑक्सीजन की सप्लाई रोकी है, हम उसे फांसी दे देंगे ऐसे किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जायेगा जो ऑक्सीजन की सप्लाई को रोकेगा !न्यायालय ने दिल्ली में केजरीवाल सरकार से इस बात की सूचना केंद्र को देने को कही ताकि केंद्र इस तरह के किसी भी स्थानीय प्रशासनिक अधिकारी के खिलाफ उचित क़ानूनी कार्यवाही कर सक।

दिल्ली उच्च नयायालय ने केंद्र सरकार से पूछा की जब दिल्ली को 480 मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई निर्धारित हुई थी तो वह उसे कब तक मिलेगी आपने हमे 21.04.2021 को भरोसा दिलाया था की दिल्ली को 480 मीट्रिक टन प्रति दिन देने का आश्वासन दिया था। बताइये की दिल्ली तक वह कब पहुंचेगी अभी तक दिल्ली 480 मीट्रिक टन ऑक्सीजन से वंचित है। एमएचए ने दिल्ली उच्च नयायालय को बताया की देश में कोरोना संक्रमण में मामले बढ़ने से ऑक्सीजन की कमी हो गई है जिसके लिए राज्य सरकारें भी कड़ी मेहनत कर रही हैं इसके लिए केंद्र और राज्य सरकार को मिलकर काम करना होगा दिल्ली सरकार को क्रययोजनीक खरीद के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए।

कोर्ट ने केंद्र और दिल्ली सरकार में मिलकर काम करने को कहा दिल्ली उच्च नयायालय ने दिल्ली सरकार से भी कई सवाल किये। दिल्ली सरकार ने अपनी दलील में यह भी कहा की उन्हें सिर्फ 380 मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई की गयी है। इस पर केंद्र ने उलटा केजरीवाल सरकार पर ही ढीकरा फोड़ दिया। उन्होंने कहा की हर राज्य सरकार ऑक्सीजन लाने का इंतज़ाम खुद कर रही है जबकि दिल्ली सरकार ही एकमात्र ऐसी सरकार है जो केंद्र सरकार पर निर्भर है। जब दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार के वकील आपस में ही भिड़ गए तब जाकर दोनों की तू तू मैं मैं को शांत करवाने के लिए अदालत को बीच में कूदना पड़ा। बता दें की अभी भी दिल्ली के कई अस्पतालों में ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं हुई है। बीते कई दिनों से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल केंद्र से इसी बात की गुहार लगा रहे हैं।

Show More

Related Articles

Back to top button