दिल्ली दंगे में चार मामलों में आरोपी की जमानत याचिका खारिज

दिल्ली की एक अदालत ने उत्तर-पूर्व दिल्ली में हुए दंगों से संबंधित चार मामलों में एक आरोपी की जमानत याचिका को खारिज करते हुए और कहा कि एक चश्मदीद गवाह ने दंगाई भीड के कथित सदस्य के रूप में उसकी पहचान की है और आरोपी को सीसीटीवी फुटेज में भी तोड़फोड़ करते देखा गया है।

करावल नगर इलाके में दंगे से संबंधित मामलों में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश विनोद यादव ने प्रवीण गिरि नामक आरोपी की जमानत याचिका खारिज कर दी। अदालत ने अपने आदेश में कहा कि चश्मदीद गवाह कल्याण सिंह ने आवेदक (गिरि) की साफ़ तौर पर दंगाई भीड़ के सदस्य के रूप में पहचान की है। इसके अलावा रियाज मलिक नामक दूकान मालिक की दुकान के बहार लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज में भी आरोपी की पहचान हुयी है।
अदालत के अनुसार चूंकि मामलों के गवाह उसी इलाके के रहने वाले हैं, इसलिए आरोपी द्वारा धमकी देने या डराए जाने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है। हालाँकि सुनवाई के दौरान आरोपी के वकील ने दावा किया कि उसे दंगे के इन मामलों में फंसाया गया है। दूसरी ओर पुलिस की ओर से पेश विशेष लोक अभियोजक नितिन राय शर्मा ने दावा किया कि आरोपी ‘दंगाई भीड़’ का सक्रिय तौर पर शामिल था।

ज्ञात रहे कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली में फरवरी में हुए दंगों में कम से कम 53 लोग मारे गए और करीब 200 लोग घायल हो गए थे।

Show More

Related Articles

Back to top button